As an Amazon Associate I earn from qualifying purchases from amazon.com

Benefits of Apricot in Hindi


Apricot in Hindi – एप्रीकॉट एक पहाड़ी गठु लीदार फल है। जि सेहि दं ी में(Apricot meaning in Hindi) खबु ानी, जरदाल,ूचि लूऔर सस्ं कत मेंउरुमाण के नाम सेजाना जाता है। खबु ानी का वनस्पति के नाम Prunus armeniaca (प्रनू स ्आरमीनि आका) है। और यह Rosaceae (रोजेसी) कुल सेसबं धं रखता है। 

इसेताजा या सखु ाकर ड्राई फ्रूट्स के रूप मेंसेवन कि या जाता है। इसके अलावा खबु ानी फल का इस्तमे ाल जमै , जेली, सि रप या जसू बनानेमेंभी कि या जाता है। तथा इसमेंफूलनेवालेफूल सफेद सेहल्के गलु ाबी रंग के होते हैं। जो पांच पखं ड़िुड़ियों वालेहोतेहै। जो आमतौर पर अकेलेया जोड़ों मेंखि लतेहै। 

‘एप्रीकॉट फल’ को भारत और पाकि स्तान मेंकाफी महत्वपर्णू र्णफल समझा जाता है। इसमेंकई वि टामि सं और फाइबर होतेहैं। जि सके सेवन कई अद्भतु फायदेहोतेहैं। तो आइए जानतेहैं। एप्रीकॉट फल के सेवन सेहोने वालेअद्भतु फायदे(Benefits of Apricot in Hindi) और इसके पेड़, पत्ते, फूल और फल आदि के बारेमें सपं र्णू र्णजानकारी। 

What is apricot in Hindi | खबु ानी क्या है? 

खबु ानी एक गर्म तासीर वाला फल है। जो स्वाद मेंमीठा और आकार मेंआडूया पल्म जसै ा होता है। यह आमतौर पर पीलेया नारंगी रंग मेंहोता है। इसका छि लका मलु ायम तथा हल्का खरुदरा होता है। जि सके अदं र कालेरंग का हल्का खरुदरी वाला बीज पाया जाता है। जि सेखानेके लि ए भी उपयोग कि या जाता है। लेकि न सीमि त मात्रा मेंऔर केवल बड़ेव्यक्ति द्वारा ही खाया जाता है। इसके बीज को छोटेबच्चेको देना सख्त मना कि या जाता है। क्योंकि इसके बीज मेंजहरीला रसायन ‘साइनाइड’ होता है। जो जानलेवा भी हो सकता है। 

खबु ानी के पेड़ की बात करेंतो खबु ानी का पेड़ 20 से25 फीट ऊं चा तथा चौड़ा होता है। और इसके अर्ध बोनेपेड़ की ऊं चाई करीब 12 से18 फीट तक होता है। तथा बोनेकि स्मो वालेखबु ानी के पेड़ की बात करें। तो यह बहत ही छोटेलगभग 5 से8 फीट लबं ी और चौड़ी होती है। 

खबु ानी का पेड़ के पत्ते(leaves of Apricot in Hindi) गोलाकार आधार, नकु ीलेसि रेऔर दाँतदे ार कि नारेके साथ अडं ाकार होती है। तथा इसमेंखि लनेवालेफूल सफेद सेहल्के गलु ाबी रंग के होतेहैं। जो पांच पखं ड़िुड़ियों वालेहोतेहैजो अकेलेया जोड़ों मेंखि लतेहै।

इसमेंफलनेवाला फल पीलेरंग का होता हैं(Apricot fruit in hindi) जि सेताजा या सखु ाकर ड्राई फ्रूट्स के रूप मेंउपयोग कि या जाता है। इसके अलावा इसका उपयोग जेम, जलै ी, सि रप या जसू आदि बनानेमेंभी कि या जाता है। 

खबु ानी के कई कि स्मेंहैं। जि नमेंकैशा, शि पलेज, चौबटि या मध,ुडुन्स्टानअर्ली , न्यूलार्जअर्ज र्ली और मास्काट आदि शामि ल है। जो शीघ्र तयै ार होनेवाली कि स्मेंहैं। इसके अलावा मध्य अवधि मेंतयै ार होनेवाली कि स्में- शक्करपारा, चारमग्ज, हरकोट, ऐमा, सफेदा, केशा, मोरपार्क, टर्की , और क्लथू ा गोल्ड आदि शामि ल है। साथ ही देर सेतयै ार होनेवाली कि स्में- एलेक्स, रायल, सेन्ट एम्ब्रि योज और वल्ुकान आदि शामि ल हैं। जो भारत में काफी प्रचलि त कि स्मों मेंसेएक हैं। 

इसके बारे मेंभी विस्तार से पढ़ें: Benefits of Avocado in Hindi | एवोकाडो क्या है? फायदे और नकु सान खबु ानी का उत्पादन 

खबु ानी की खेती परूेवि श्व भर मेंकी जाती है। जि नमेंअमेरि का, तर्कीु र्की, भारत, और पाकि स्तान आदि हैं। जि समें परूेवि श्व मेंसबसेअधि क तर्कीु र्की मेंखबु ानी की खेती की जाती है। जहां 2005 में390,000 टन खबु ानी का उत्पादन हआ था। इसके बाद ईरान मेंजहां 2005 में285,000 टन खबु ानी का उत्पादन कि या गया था। खबु ानी एक ठंडेप्रदेश का पौधा है। गर्मी मेंमर जाता है। या फि र फल ही नहींदेता है। भारत मेंइसका उत्पादन उत्तर के पहाड़ी इलाकों मेंकी जाती है। जि समेंहि माचल प्रदेश, कश्मीर और उत्तराखडं आदि शामि ल है। 

Benefits of apricot in Hindi | खबु ानी के फायदे 

apricot in Hindi

एप्रीकॉट में विटामिन ए, विटामिन B-6, विटामिन सी, विटामिन ई, विटामिन के, सोडियम, पोटेशि यम, फॉस्फोरस कैल्शि यम, मग्ैनीशि यम, आयरन, शगु र, फाइबर, कॉपर, कार्बो हाइड्रटे , प्रोटीन, ऊर्जा , पानी, जिकं , मग्ैनीज, थियामीन, नि यासि न, राइबोफ्लेवि न, फोलेट, बीटा कैरोटीन और फैट आदि कई पोषक तत्व प्रचरु मात्रा मेंपाए जातेहैं। जिसके सेवन सेकई अद्भतु फायदेहोतेहैंतो आइए जानतेहैंखबु ानी के सेवन सेहोने वालेअद्भतु फायदेके बारेमें।

1. हड्डियों को मजबतू बनानेके लिए 

शरीर मेंहड्डि यांकमजोर होनेसेऑस्टि योपोरोसि स जसै ेकई रोग होनेका खतरा बना रहता है। जि सके लि ए हड्डि यों को स्वस्थ और मजबतू बनाना काफी जरूरी होता है। ऐसेमेंअगर आप बढ़ती उम्र के साथ खान-पान मेंपोषण की कमी होनेके कारण हड्डि यों मेंकमजोरी महशशु कर रहेहैं। तो आप अपनेआहार मेंखबु ानी को 

शामि ल कर सकतेहैं। इसमेंपोटैशि यम, मग्निैग्नि शि यम, कैलशि यम, फास्फोरस आदि कई जरूरतमदं पोषक तत्व पाए जातेहैं। जो काफी भरपरू मात्रा मेंहोतेहैं। यह हमारेहड्डि यों को स्वस्थ और मजबतू बनानेमेंकाफी मदद करतेहैं। 

2. पाचन क्रिया को बेहतर बनानेके लिए 

पाचन क्रि या सही सेकाम ना करनेके कारण पेट मेंगैस, कब्ज, अपच आदि की समस्या बनी रहती है। जो हमारेदि नचर्या को काफी खराब बना देता है। ऐसेमेंखराब पाचन क्रि या को बेहतर बनानेके लि ए आप खबु ानी का सेवन कर सकतेहैं। इसमेंफाइबर की परचरू मात्रा पाई जाती हैजो पाचन क्रि या को बेहतर बनानेमेंकाफी मदद करती है। 

3. एनीमि या रोग दरू करनेके लि ए 

एनीमि या रोग शरीर मेंखनू की कमी को कहतेहैं। इसमेंलाल रक्त कोशि काएंकम हो जाती है। तथा इसमें हमारेशरीर के अगं ों तक ऑक्सीजन पहंच नहींपाती, खबु ानी मेंफोलेट और आयरन की भरपरू मात्रा पाई जाती है। जो खनू की कमी को परूा कर एनीमि या रोग को दरू करनेमेंकाफी मदद करती है। 

4. हृदय को स्वस्थ रखनेके लि ए 

यदि आप अपनेहृदय को स्वस्थ और मजबतू रखनेके साथ स्ट्रोक, एथेरोस्लेरोसि सि स और दि ल के दौरेआदि रोगों सेदरू रखना चाहतेहैं। तो आप इस खबु ानी फल को अपनेआहार मेंशामि ल कर सकतेहैं। इसमेंकाफी अच्छी मात्रा मेंवि टामि न सी, पोटेशि यम, और फाइबर आदि पाया जाता है। जो दि ल को मक्ुत कणों सेबचाता है। रक्त वाहि काओंऔर धमनि यों के तनाव को आराम देता है। और रक्तचाप को कम करनेमेंमदद करता है। इसमेंमौजदू फाइबर कोलेस्ट्रोल को तोड़नेका काम करता है। जि ससेहमारा हृदय तनाव मक्ुत रहता है। जो हमारेहृदय के स्वस्थ के लि ए काफी लाभदायक होता है। 

5. सजू न दरू करनेके लि ए 

यदि आपके शरीर मेंसजू न की समस्या होती रहती है। तो आप खबु ानी का सेवन कर सकतेहैं। इसमेंएंटी इन्फ्लेमेटरी गणु पाया जाता है। जो सजू न को दरू करनेमेंकाफी सहायक होता है। 

6. वजन कम करनेके लि ए 

मोटापेसेपरेशान व्यक्ति एप्रीकॉट का सेवन कर सकतेहैं। इसमेंकम मात्रा मेंकैलोरी और अधि क मात्रा में फाइबर होता है। जो चयापचय दर को सधु ार करके पाचन तथा वि षलै ेतत्वों के नि ष्कासन मेंशरीर प्रति क्रि याओंको बेहतर बनाता है। और वजन कम करनेमेंमदद करता हैंजि सके लि ए आप खबु ानी का सेवन अपना वजन कम करनेके लि ए कर सकतेहैं। 

7. गर्भवर्भ ती महिलाओं के लिए 

हर गर्भवर्भ ती महि ला गर्भा वस्था के दौरान बच्चेऔर अपनेशरीर के पोषण की पर्तिूर्ति को लेकर काफी सतर्क रहती है। जि सके लि ए वह कई तरह का बेहतर आहार का सेवन करती है। ऐसेमेंआप खबु ानी को अपनेआहार में शामि ल कर सकतेहैं। इसमें विटामिन ए, विटामिन सी, विटामिन ई, फास्फोरस, कैलशि यम, सिलिकॉन,

आयरन और पोटेशि यम आदि होता हैंजो शरीर मेंएनीमि या होनेसेबचाता है। और गर्भवर्भ ती तथा स्तनपान करानेवाली महि लाओंको बेहतर पोषण प्रदान करता है। 

8. आखं ों के समस्याओं के लिए 

बढ़ती उम्र के साथ हमारी आखं ेंकमजोर होनेलगती है। जि ससेहमेंआसपास की वस्तएु ंभी काफी धधंु ली सी नजर आनेलगती है। जो ज्यादातर हमारेशरीर मेंपोषक तत्वों की कमी के कारण होती है। ऐसेमेंआप इस खबु ानी फल का सेवन कर सकतेहैं। इसमेंमौजदू एंटीऑक्सीडेंट और बीटा कैरोटीन आखं ों मेंऑप्टि क नसों को मजबतू बनानेएवंआखं ों की स्वस्थ को बेहतर बनानेमेंकाफी मदद करता है। 

9. त्वचा के लिए 

त्वचा की समस्या जसै ेएग्जि मा, खजु ली आदि की समस्या होनेपर खबु ानी के तले का इस्तमे ाल कर सकतेहैं। यह त्वचा द्वारा जल्द अवशोषि त हो जाता है। और इससेत्वचा तलिैलियेभी नहींलगता है। इसमेंपाया जाने वाला एंटीऑक्सीडेंट और वि टामि न ए त्वचा के रोगों को दरू करनेके साथ त्वचा को मलु ायम, चि कनी व चमकदार बनानेमेंकाफी मदद करता है। 

10. कान का दर्द दरू करने के लिए 

अक्सर लोगों को ठंड के दि नों मेंअधि क ठंड लगनेके कारण कान मेंदर्द की समस्या पदै ा हो जाती है। जि ससे राहत पानेके लि ए आप खबु ानी के बीज का तले एक सेदो बदंू कान मेंडाल सकतेहैं। इसमेंपाया जानेवाला एंटीऑक्सीडेंट प्रचरु मात्रा मेंहोता है। जो कान के दर्द सेराहत दि लानेमेंकाफी मदद करता है। 

11. बार-बार प्यास लगनेकी समस्या दरू करनेके लि ए 

बार-बार प्यास लगना अक्सर कि सी दवा के साइड इफेक्ट्स के कारण या कि सी बीमारी के लक्षण के कारण उत्पन्न हो सकता है। इसके अलावा मेनोपॉज के कारण भी बार-बार प्यास लग सकता हैं। ऐसेमेंइस समस्या सेछुटकारा पानेके लि ए आप खबु ानी का सेवन कर सकतेहैं। जो काफी लाभदायक साबि त होता है। 

12. अस्थमा रोग दरू करने के लिए 

अस्थमा जि सेदमा भी कहतेहैं। इसमेंसांस लेना मश्किुश्कि ल होता है। तथा कुछ शारीरि क एक्टि वि टीज को भी मश्किुश्कि ल बना देता है। ऐसेमेंइस अस्थमा रोग को दरू करनेके लि ए आप खबु ानी का सेवन कर सकतेहैं। इसमें लाइकोपीन कैरोटीनॉयड कंपाउंड होता है। जो अस्थमा को नि यत्रिं त्रित करनेमेंकाफी मदद करता है। 

13. आग सेजलेघाव दरू करने के लिए 

यदि आप खाना पकानेवक्त या कि सी कारणवश है। हाथ परै जला लेतेहैं। तो आप खबु ानी के बीज का तले लगा सकतेहैं। जो जल्द राहत दि लानेमेंकाफी मदद करता है। 

14. गठि या के दर्द सेराहत पाने के लिए 

गठि या एक ऐसी समस्या है। जि सेआजकल बजु र्गोंु र्गों के अलावा के कई यवु ाओंमेंभी देखा जा सकता है। जि समें काफी दर्द की समस्या बनी रहती है। गठि या के दर्द सेराहत पानेके लि ए खबु ानी आदि द्रव्यों सेबनेघी का सेवन कर सकतेहैं। जो काफी हद तक राहत पानेमेंमदद कर सकता है। 

15. मसल्स बनानेमेंसहायक के लिए

अभी आप काफी कमजोर है। और मसल्स नि र्मा ण करनेमेंआपको कठि नाई हो रही है। तो आप अपनेआहार मेंसखू ेखबु ानी को शामि ल कर सकतेहैं। इसमेंप्रोटीन काफी प्रचरु मात्रा मेंपाया जाता है। जो मसल्स नि र्मा ण करनेमेंकाफी मदद करता है। 

16. शारीरि क कमजोरी दरू करने के लिए 

यदि आप कई दि नों तक बीमार रहेहैं। जि सके कारण आपको कमजोरी आ गई है। तो ऐसेमेंआप खबु ानी के एक चम्मच तले (Oil of Apricot in Hindi) को दधू मेंडालकर सेवन कर सकतेहैं। इसका उपयोग हि मालयी क्षेत्रों मेंकाफी अधि क कि या जाता है। इसमेंभरपरू मात्रा मेंपोषक तत्व होतेहैं। जो शारीरि क कमजोरी को दरू कर शरीर को ताकत देनेका काम करतेहैं। 

खबु ानी फल खानेका समय 

खबु ानी एक फल है। जि सेआप सबु ह या दोपहर कभी भी खा सकतेहैं। लेकि न आयर्वेु र्वेद के अनसु ार कि सी भी फल को सबु ह के वक्त खाना सबसेअच्छा माना जाता है। रोजाना सामान्य तौर पर इसेआप चार सेछह खबु ानी खा सकतेहैं। 

इस पढ़ें: Dry Fruits Benefits in Hindi - ड्राई फ्रूट्स के फायदे 

Uses of apricot in Hindi | खबु ानी का उपयोग 

  1. खबु ानी का उपयोग आप मि ल्कशक्े स के साथ मि लाकर सेवन कर सकतेहैं। 
  2. खबु ानी को सबु ह नाश्तेमेंदही के साथ सेवन कर सकतेहैं। इसके अलावा इसेदलि या के साथ मि लाकर नाश्तेमेंभी सेवन कर सकतेहैं। 
  3. खबु ानी को कच्चेआम व चीनी मि लाकर एक तरह की बहत ही स्वादि ष्ट चटनी भी बनाई जाती है। 4. इसेअन्य फलों की तरह सीधेतौर पर धोकर भी सेवन कर सकतेहैं। 
  4. इसेसखू ेखबू ानी (ड्राई फ्रूट) के रूप मेंभी खा सकतेहैं। 

Side effects of apricot in Hindi | खबु ानी के नकुसान 

वसै ेतो खबु ानी का सेवन सही मात्रा मेंकरनेसेकि सी भी प्रकार का नकु सान नहीं होता है। लेकि न इसेअगर आप अधि क मात्र मेंसेवन करतेहैंतो नि म्नलि खि त नकु सान देखेजा सकतेहैं। 

  1. सखू ेखबु ानी अधि क मात्रा मेंसेवन करनेसेहमारी आतं ो को नकु सान कर सकता है। 
  2. कि सी व्यक्ति को इसके सेवन सेएलर्जी होती हैतो जि तना हो सके सेवन करनेसेबचें। 
  3. इसका बीज खानेयोग होता है। परंतुइसेअधि क मात्रा मेंनहीं खाना चाहि ए और ना ही इसेबच्चों को देना चाहि ए क्योंकि खबु ानी के बीज मेंएक जहरीला रसायन ‘साइनाइड’ होता है। जि सके अधि क सेवन सेजानलेवा साबि त भी हो सकता है। 

Disclaimer: The statements, opinions, and data contained in these publications are solely those of the individual authors and contributors and not of Credihealth and the editor(s). 

Call +91 8010-994-994 and talk to Credihealth Medical Experts for FREE. Get assistance in choosing the right specialist doctor and clinic, compare treatment cost from various centers and timely medical updates


We will be happy to hear your thoughts

Leave a reply

The Connect Shop Online
Logo
Enable registration in settings - general
Compare items
  • Total (0)
Compare
0
Shopping cart